NCERT Infrexa

International Labour Day: अंतर्राष्ट्रीय श्रम दिवस कब और क्यों मनाया जाता है?

International Labour Day 2022 जने कब है

NCERT Infrexa

मजदूर दिवस (Labour Day) : मजदूर दिवस पूरे विश्व में हर साल 1 मई को मनाया जाता है। मजदूर दिवस (Labour Day) को अंतर्राष्ट्रीय श्रम दिवस (International Labour Day), लेबर डे या मई दिवस के नाम से भी जाना जाता है।

यह दिन दुनिया के मजदूरों और श्रमिकों को समर्पित है। अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस की शुरुआत 1 मई 1886 को अमेरिका में एक आंदोलन से हुई थी।

अमेरिका में मजदूरी का काम करने वाले श्रमिकों ने 8 घंटे का समय निर्धारण किए जाने को लेकर यह आंदोलन चलाया था। 1 मई, 1886 को बड़ी संख्या में मजदूरों ने, रोजाना 15-15 घंटे काम कराए जाने एवं शोषण के खिलाफ पूरे अमेरिका में सड़कों पर उतर आए थे।

यह भी पढ़ें- World Malaria Day | विश्व मलेरिया दिवस

इसी दौरान कुछ मजदूरों पर पुलिस वालों ने गोली चला दी थी, जिसमें कई मजदूरों की मौत हो गई थी और 100 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे।

इसके बाद 1889 में अंतरराष्ट्रीय समाजवादी सम्मेलन की दूसरी बैठक में एक प्रस्ताव पारित किया गया, जिसमें यह ऐलान किया गया कि 1 मई को अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस (Labour Day) के रूप में मनाया जाएगा और इस दिन सभी कामगारों और श्रमिकों का अवकाश रहेगा।

इसी के साथ भारत सहित दुनिया के तमाम देशों में काम के लिए 8 घंटे का समय निर्धारित करने की नींव पड़ी।

भारत में मजदूर दिवस की शुरुआत चेन्नई में 1 मई 1923 में लेबर किसान पार्टी ऑफ हिंदुस्तान और वामपंथियों के नेतृत्व में हुआ था। इस समय किसान नेताओं के द्वारा लाल झंडे का इस्तेमाल किया गया था।

यह भी पढ़ें –

यह दिन मजदूरों के सम्मान, उनकी एकता और उनके हक के के समर्थन में मनाया जाता है। इस मौके पर मजदूर संगठन से जुड़े लोग रैली व सभाओं का आयोजन करते हैं एवं अपने अधिकारों के लिए आवाज बुलंद करते हैं।

कई देशों में मजदूरों के लिए कल्याणकारी योजनाओं की घोषणा की जाती है।

आज मजदूरों की उपलब्धियों और देश के विकास में उनके योगदान को सलाम करने का दिन है। ऐसा कहा जाता है कि देश, समाज, संस्था और उद्योग में सबसे ज्यादा योगदान कामगारो और मजदूरों का होता है। मजदूर दिवस (Labour Day) पर हमें मजदूरो की मेहनत को याद करते हुए उन्हें धन्यवाद करना चाहिए।

नए लेख-

NCERT- Infrexa
Exit mobile version