NCF 2005 pdf in Hindi

NCF 2005 in Hindi | राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा | National Curriculum framework

Share this article

राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा 2005 (NCF 2005 in Hindi): जुलाई 2004 में राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (NCERT) द्वारा “राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रूपरेखा” / National curriculum framework को संशोधित करने का निर्णय तब लिया गया जब तत्कालीन संसाधन विकास मंत्री ने लोक सभा में अपने वक्तव्य में यह अभिभाषित किया कि भारत में “शिक्षा बिना बोझ” के होनी चाहिए। – [NCF 2005 pdf in hindi attached]

मानव संसाधन विकास मंत्रालय के इन्ही निर्णयों के संदर्भ में प्रोफेसर यशपाल की अध्यक्षता वाली बैठक में एक राष्ट्रीय संचालन समिति और लगभग 21 अन्य राष्ट्रीय फोकस समूहों का गठन किया गया। इस समिति का उद्देश्य राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा – 2000 (NCF-2000) की समीक्षा कर उसमें जरूरी संसोधन करना था ताकि भारत में शिक्षा के अनुप्रयोगों को अधिक सफल बनाया जा सके।

यह लेख अंग्रेजी भाषा में भी उपलब्ध है, कृपया अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

इस समिति में उच्च शिक्षा संस्थानों के वरिष्ठ प्रतिनिधि, NCERT के मेंबर्स, सरकारी और गैर सरकारी स्कूलों के प्रतिनिधियों को चर्चा के लिए शामिल किया गया।

राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा 2005 | (NCF 2005 in Hindi) | NCF 2005 kya hai

राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा 2005 (National Curriculum Framework – 2005) को चतुर्थ राष्ट्रीय पाठ्यचर्या ढांचा के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इससे पूर्व इसके तीन संस्करण – NCF 1975, NCF 1988 और NCF 2000 प्रकाशित किये जा चुके हैं।

लेख के अंत में आपको NCF 2005 pdf in Hindi उपलब्ध करवाई जाएगी। कृपया ध्यान दें कि pdf file आधिकारिक भाषा में होने के कारण आपको इसे समझने में थोड़ी कठिनाई हो सकती है अतः आपको मेरा सुझाव है कि इस लेख (NCF 2005 Kya hai) को ध्यान पूर्वक पढ़ें इसके बाद ही राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा 2005 की पीडीएफ फ़ाइल् डाऊनलोड करें।

राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा 2005 (NCF 2005 in Hindi / National curriculum framework 2005 in Hindi) से सम्बंधित कुछ महत्वपूर्ण जानकारियाँ –

नामराष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा 2005 (National curriculum framework 2005)
अन्य नामचतुर्थ राष्ट्रीय पाठ्यचर्या ढांचा
अध्यक्षप्रो. यश पाल
प्रकाशकराष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद
श्रृंखला4th राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा
सम्बंधित मंत्रालयशिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार
कुल पृष्ठ180
डाउनलोड लिंकनीचे जाएँ

राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा 2005 के उद्देश्य (Aims and objectives of NCF 2005 in Hindi)

यह रूपरेखा सामाजिक न्याय और समानता के उच्च संवैधानिक मूल्यों पर आधारित है जो समतामूलक और बहुलतावादी समाज के आदर्शों से प्रेरणा लेती है।

राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा 2005 (National Curriculum Framework, 2005) कई व्यापक उद्देश्यों को चिन्हित करती है, जिसमें –

  • विचार और कर्म की स्वतंत्रता
  • दूसरों की भलाई (Well-being of others) और उनके भावनाओं के प्रति संवेदनशीलता (Ethical sensibility)
  • परिस्थितियों का शालीनता और रचनात्मक तरीके से सामना करना और
  • लोकतांत्रिक प्रक्रिया में भागीदारी की प्रवृत्ति बढ़ाना और आर्थिक तथा सामाजिक प्रक्रियाओं में बदलाव लाने हेतु कार्य करने की क्षमता को विकसित करना इत्यादि शामिल है।

You are reading – राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा 2005 क्या है (NCF 2005 Kya hai)?

राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा 2005 के सिद्धांत (Principles of NCF 2005 in Hindi)

National Curriculum Framework 2005 (NCF) निम्न लिखित सिद्धांतों को केंद्र में रखकर कार्य करता है –

  • ज्ञान को स्कूल के बाहर से जोड़ना
  • पढ़ाई में रटने की प्रवृत्ति से मुक्त करना
  • पाठ्यचर्या का इस प्रकार से संवर्धन (Promotion) करना कि वह केवल पाठ्यपुस्तक केंद्रित न रह जाए बल्कि वह बच्चों को चहुँमुखी विकास (all-round and multidiamentional development) के अवसर भी उपलब्ध कराए।
  • परीक्षाओं को अपेक्षाकृत लचीला (Flexible) बनाना और कक्षा (Class) की गतिविधियों (actvities) से जोड़ना
  • ऐसे विचारों का विकास जिसमें प्रजातांत्रिक राज-व्यवस्था के अंतर्गत राष्ट्रीय चिंताएं समाहित हों।

राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा 2005 के सुझाव / सिफारिशें (Recommendations of NCF 2005 in Hindi)

बच्चों को पढ़ाई के अधिक दबाब से मुक्त कर स्कूल शिक्षा को आनंदपूर्ण बनाने हेतु राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा – 2005 निम्नलिखित शिफारिशें करता है –

  • विषयों की सीमाओं को हटाया जाए ताकि बच्चों को समग्र ज्ञान का आनंद मिले और चीजों को समझने में खुशी और आनंद का अनुभव हो।
  • त्रिभाषा फार्मूले (Tri-language formula) को लागू किया जाए जिसमें आदिवासी भाषाओं (Tribal languages) सहित बच्चों की मातृभाषाओं (Mother language) को शिक्षा के माध्यम के रूप में स्वीकृत देने पर जोर हो।
  • बच्चों में बहुभाषिक प्रवीणता (Multi-laungauge skill) विकसित हो सके इसके लिए पाठ्यक्रम में अंग्रेजी भाषा (English language) को भी शामिल किया जाए।
  • प्राथमिक कक्षाओं (Primary and Elementory stages) के पूरे दौर में पढ़ने पर जोर दिया जाए जिससे हर बच्चे को स्कूली शिक्षा का ठोस आधार मिल सके।
  • गणित की शिक्षा ऐसी होनी चाहिए जिससे बच्चों की चिंतन, तर्क शक्ति, अमूर्तनों की संकल्पना, समस्याओं को सूत्रबद्ध कर उन्हें सुलझाने आदि की योग्यता समृद्ध हो।

Read this also: NCF 2005 pdf in hindi download

उपरोक्त के अतिरिक्त, यह –

  • पाठ्यपुस्तक में ऐसी सामग्रियों की बहुलता को प्रेरित करता है जिसमे स्थानीय ज्ञान और पारंपरिक कौशल शामिल हो।
  • ऐसा स्कूली माहौल विकसित करने का सुझाव देता है जिसमें बच्चों के घर और सामुदायिक परिवेश के मध्य जीवंत संबंध बनाए जा सके।
  • प्रत्येक स्तर पर विषय के रूप में विभिन्न कलाओं जैसे – गायन, नृत्य, दृश्य कलाएँ और नाटक इत्यादि को जगह दिए जाने की सिफारिश करता है।

इसे भी पढ़े: प्राथमिक पाठशाला के बच्चों के लिए “नो डिटेंशन पॉलिसी” क्या है?

राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा 2005 की विशेषताएं (Characteristics of NCF 2005 in Hindi)

शिक्षा आज और भविष्य की जरूरतों के लिए ज्यादा प्रसांगिक बन सके इसके लिए राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रूपरेखा 2005 (National Curriculum Framework 2005) स्कूल कॅरिकुलम के चार क्षेत्रों – भाषा, गणित, विज्ञान और सामाजिक विज्ञान में महत्वपूर्ण परिवर्तनों को प्रेरित करता है जिसे निम्न प्रकार से समझा जा सकता हैं –

  • यह राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा -1988 में संशोधन करने के लिए ऐतिहासिक पृष्ठभूमि और तर्क प्रदान करता है।
  • यह शिक्षा के मूल लक्ष्य को व्यापक दिशानिर्देश प्रदान करता है और बताता है कि शिक्षा समाज की मौजूदा महत्वाकांक्षाओं व जरूरतों के साथ मानवीय आदर्शों पर भी प्रतिविम्बित होनी चाहिए।
  • भारतीय शिक्षा को तनाव और दुश्चिंता से पृथक कर प्रगतिशील मूल्यांकन और आकलन जैसे उच्च मानकों की प्रतिभूति करता है।
  • यह शिक्षा के क्षेत्र में व्यवस्थागत सुधार के लिए उपयोगी मार्गदर्शन देता है।
  • किताबों की संख्या को घटाकर शिक्षा में क्षेत्र में तकनीकी के उपयोग को बढ़ावा देता है।
  • शिक्षण संस्थानों में सभी बच्चों की सक्रिय भागीदारी और विद्यालय एवं कक्षा में स्वच्छ वातावरण को अभिलक्षित करता है।
  • यह काम-केंद्रित शिक्षा (व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण) के लिए रचनात्मक सुझाव उपलब्ध कराता है।
  • शिक्षा के क्षेत्र में गैर-सरकारी संगठन, नागरिक समाज समूह और शिक्षक संगठनों की भूमिका के महत्व को उजागर करता है।

एनसीएफ अधिकारिक परिपत्र डाऊनलोड – NCF 2005 pdf in Hindi

राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा 2005 (NCF 2005 pdf in Hindi) की मूल प्रति (Official version) यहाँ मुफ्त (free) में उपलब्ध करायी जा रही है, राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखा – 2005 को डाऊनलोड (NCF 2005 pdf in Hindi download) करने के लिए कृपया नीचे दी गई बटन का प्रयोग करें। – [NCF 2005 pdf in hindi download – attached]

NCF 2005 PPT in Hindi: NCF 2005 PPT in Hindi language is getting available soon.

(The pdf file of NCF 2005 in the Hindi language / is attached below, users are requested to click on the below button to download NCF 2005 pdf in Hindi / National curriculum framework 2005 in Hindi).

NCF Kya hai पढ़ने वालों ने इन्हें भी पढ़ा है –

ध्यान दें

हमारें लेखक कई घंटों तक कड़ी मेहनत करते हैं ताकि आपको प्रामाणिक और उच्च गुणवत्ता युक्त सामग्री प्रदान की जा सकें, हमारे कार्य की सराहना और हमें सहयोग करने के लिए, आप चाहें तो नीचे दी गई बटन का उपयोग कर, अपना योगदान दे सकतें है।

Leave a Comment