Nipah virus

NIPAH VIRUS: निपाह वायरस क्या है? इसके लक्षण और बचाव

Share this article

Nipah virus: निपाह वायरस एक उभरती हुई संक्रामक बीमारी है जो 1998 और 1999 में मलेशिया और सिंगापुर में फैल गई थी।

यह संक्रमण इंसानों को प्रभावित करने के लिए भी जाना जाता है। निपाह वायरस वह जीव है जो एन्सेफलाइटिस का कारण बनता है। निपाह वायरस पैरामाइक्सोविरिडे की प्रजाति का वायरस है। यह जीनस हेनिपावायरस का RNA है, और हेंड्रा वायरस के निकटता से संबंधित है।

Nipah Virus
Nipah Virus

महत्वपूर्ण तथ्य

  • मनुष्यों में Nipah virus (निपाह वायरस) का संक्रमण कई प्रकार की बिमारियों का कारण बनता है, जिसमें स्पर्शोन्मुख संक्रमण (उप-क्लिनिकल) से लेकर तीव्र श्वसन संक्रमण और घातक एन्सेफलाइटिस शामिल हैं।
  • निपाह वाइरस से ग्रसित लोगों या जानवरों के लिए कोई इलाज या टीका उपलब्ध नहीं है। मनुष्यों के लिए प्राथमिक उपचार देखभाल और सपोर्टिव ट्रीटमेंट की मदद से किया जाता है।
  • प्राथमिकता वाली बीमारियों की WHO और R&D के ब्लूप्रिंट सूची – 2018 की वार्षिक समीक्षा से संकेत मिलता है कि Nipah virus के लिए त्वरित अनुसंधान और विकास की तत्काल आवश्यकता है।

निपाह वायरस क्या है? (What is Nipah virus?)

Nipah virus (NiV) एक जूनोटिक वायरस है जो दूषित भोजन या सीधे लोगों से लोगों के बीच फैलाया/प्रसारित किया जा सकता है।

Nipah virus के संक्रमण का नाम मलेशिया के उस गाँव के नाम पर पड़ा, जहाँ निपाह वायरस से संक्रमित पहला रोगी मिला था। रोगी ने इस बीमारी के कारण दम तोड़ दिया था।

इस वायरस (निपाह वायरस) को वर्ल्ड ऑर्गनाइजेशन फॉर एनिमल हेल्थ (OIE) टेरेस्ट्रियल एनिमल हेल्थ कोड में सूचीबद्ध किया गया है।

Read – 2 Min

निपाह वायरस का प्रकोप (Nipah virus outbreak)

Nipah virus को पहली बार 1999 में मलेशिया में सुअर और किसानों के प्रकोप के दौरान पहचाना गया था। 1999 के बाद से मलेशिया में कोई नया प्रकोप सामने नहीं आया है।

निपाह वायरस को 2001 में बांग्लादेश में भी मान्यता दी गई थी, और तब से उस देश में लगभग वार्षिक प्रकोप हुआ है। पूर्वी भारत में भी समय-समय पर इस रोग की पहचान की गई है।

भारत में निपाह वायरस (Nipah virus in india)

अब तक, भारत ने 65% से 100% तक सीएफआर के साथ एनआईवी (निपाह वायरस) प्रकोप के चार एपिसोड का अनुभव किया है।

NiV संक्रमण का पहला सबूत 2001 में पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी जिले में और उसके बाद 2007 में पश्चिम बंगाल के नादिया जिले में सामने आया था।

2018 में केरल राज्य के कोझीकोड जिले में तीसरा प्रकोप हुआ, जिसमें 17 मामलों की मौत हुई।

2018 में एक अध्ययन ने भारतीय राज्यों सहित कई दक्षिण पूर्व एशियाई देशों को NiV रोग के संभावित हॉटस्पॉट के रूप में पहचाना गया है।

निपाह और कोविड (Nipah and Covid)

Nipah virus और SARS COV-2 के वायरस को एक जूनोटिक वायरस के रूप में पहचाना गया है। दूसरी ओर, SARS COV-2 की उत्पत्ति का ठोस कारण अभी पता नहीं चल पाया है।

दोनों संक्रमणों में उपचार हेतु दवाइयां उपलब्ध नही नहीं है, केवल सपोर्टिव ट्रीटमेंट की मदद से ही रोगी का इलाज किया जाता है। दोनों की अभी तक कोई एंटीवायरल दवा नहीं बनी है।

यहां तक ​​कि कोई विशिष्ट टीका भी उपलब्ध नहीं है जो निपाह वायरस के संक्रमण की रोकथाम करता हो।

Read – 3 Min

निपाह वायरस कैसे फैलता है? (How does Nipah virus spread?)

यह रोग पटरोपस जीनस के फल चमगादड़ या ‘फ्लाइंग फॉक्स’ के माध्यम से फैलता है, जो निपाह और हेंड्रा वायरस के प्राकृतिक जलाशय मेजबान हैं। यह virus चमगादड़ के मूत्र और संभावित रूप से चमगादड़ के मल, लार और जन्म के तरल पदार्थों में मौजूद होता है।

संभवतः, Nipah virus के संक्रमण की पहली घटना तब हुई जब मलेशियाई खेतों में सूअर उन चमगादड़ों के संपर्क में आए जिन्होंने वनों की कटाई के कारण अपना आवास खो दिया था। इस वाइरस का संचरण, संक्रमित व्यक्ति के – कपड़े, उपकरण, जूते, या उसके साथ वाहनों में यात्रा के माध्यम से हो सकता है।

चमगादड़ और नीपाह वायरस
चमगादड़ और नीपाह वायरस

निपाह वायरस, जो एक जूनोटिक रोग है, संक्रमित सूअरों के उत्सर्जन या स्राव के सीधे संपर्क में आने के बाद मलेशिया और सिंगापुर में मनुष्यों को प्रभावित करने के लिए जाना जाता था। बांग्लादेश में निपाह वायरस प्रकोप की रिपोर्ट में इस वायरस के संक्रमण के दो संभावित कारण बताये गये है –

  • चमगादड़ के मलमूत्र से दूषित कच्चे ताड़ का रस पीने या
  • चमगादड़ों से लिपटे पेड़ों पर चढ़ने से।
Nipah Virus and Bat
Nipah Virus and Bat

निपाह संक्रमण के लक्षण (Symptoms of Nipah Infection)

आमतौर निपाह वायरस से संक्रमित व्यक्ति में निम्नलिखित लक्षण दिखाई देते हैं –

  • बुखार
  • सिरदर्द
  • उनींदापन
  • थकान
  • भ्रम
  • कोमा
  • अधिक गंभीर प्रकरणों में मृत्यु या एन्सेफलाइटिक सिंड्रोम।

मलेशिया में प्रकोप के दौरान 50 प्रतिशत तक लोगो की मृत्यु हो गई थी। निपाह वायरस का कोई विशेष उपचार नहीं है। मानव मामलों के लिए प्राथमिक उपचार गहन सहायक देखभाल है।

निपाह संक्रमण की रोकथाम (Prevention of Nipah Infection)

निपाह वायरस संक्रमण के लिए कोई टीका उपलब्ध नहीं है, केवल निवारक उपाय के जरिये ही इसके प्रसार को नियंत्रित किया जा सकता हैं।

  • सबसे कारगर उपायों में – मनुष्यों या खेत के जानवरों को चमगादड़ के जूंठे (लार से दूषित) फल खाने से रोकना है क्योंकि निपाह वाइरस का प्राथमिक प्रसार यहीं से होता है।
  • ताड़ी या दूषित खजूर के रस के सेवन से भी बचना चाहिए। चमगादड़ को ताड़ के रस तक पहुँचने और दूषित होने से बचाने के लिए भौतिक अवरोधों को लगाया जा सकता है।
  • चिकित्सा अधिकारी जो संदिग्ध या पुष्ट एनआईवी (निपाह वायरस संक्रमण) वाले रोगियों की देखभाल कर रहे हैं, उन्हें हाथ धोने, गाउन, कैप मास्क और दस्ताने पहनने जैसी बुनियादी सावधानियां बरतनी चाहिए।
  • जानवरों के मामले में, वायर स्क्रीन चमगादड़ के संपर्क को रोकने में मदद कर सकते हैं। वायर स्क्रीन का उपयोग तब किया जा सकता है जब सूअरों को खुले-किनारे वाले पिग शेड में पाला जाता है।
  • छत से बहने वाले पानी को सुअर के बाड़े में प्रवेश करने से रोका जाना चाहिए।
  • प्रयोगशाला कर्मियों के लिए, निपाह वायरस को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जैव सुरक्षा स्तर (बीएसएल) 4 एजेंट के रूप में वर्गीकृत किया जा कर।

संक्रमित सूअरों की प्रारंभिक पहचान अन्य जानवरों और मनुष्यों की रक्षा करने में मदद कर सकती है। स्वाइन आबादी में वायरस की अत्यधिक संक्रामक प्रकृति के कारण, सेरोपोसिटिव जानवरों की सामूहिक हत्या आवश्यक हो सकती है।

निपाह वायरस का निदान (Diagnosis of Nipah virus)

Nipah virus (NiV/निपाह वायरस) संक्रमण का निदान बीमारी के दौरान या ठीक होने के बाद किया जा सकता है। NiV संक्रमण के निदान के लिए विभिन्न परीक्षण उपलब्ध हैं। बीमारी के शुरुआती चरणों के दौरान गले और नाक की स्वैब, मस्तिष्कमेरु द्रव, मूत्र और रक्त से सैम्पल लेकर RT-PCR तकनिकी का उपयोग करके प्रयोगशाला परीक्षण किया जा सकता है।

RT-PCR तकनिकी

बाद में रोगी के ठीक होने के बाद, एक एंजाइम-लिंक्ड इम्युनोसॉरबेंट परख (ELISA) का उपयोग करके एंटीबॉडी परीक्षण किया जाता है।

बीमारी के गैर-विशिष्ट प्रारंभिक लक्षणों के कारण NiV (निपाह वायरस) संक्रमण का शीघ्र निदान चुनौतीपूर्ण हो सकता है। हालांकि

Diagnosis of Nipah virus - निपाह वायरस का निदान
Diagnosis of Nipah virus
  • संक्रमित व्यक्तियों में जीवित रहने की संभावना बढ़ाने
  • अन्य लोगों को संक्रमित होने से बचाने और
  • प्रकोप प्रतिक्रिया प्रयासों का प्रबंधन करने के लिए प्रारंभिक पहचान और निदान महत्वपूर्ण हैं।

NiV संक्रमण के अनुरूप लक्षणों से प्रभावित लोगों या हॉटस्पॉट एरिया में रहने वाले लोगों की समय-समय पर जाँच खासकर जो उन क्षेत्रों में रहे हैं जहां Nipah Virus (निपाह वायरस) अधिक आम है, जैसे कि बांग्लादेश या भारत-खासकर।

Leave a Comment