Inclusive education in Hindi | समावेशी शिक्षा

Inclusive education in Hindi | समावेशी शिक्षा क्या है?

Share this article

Inclusive education in Hindi: समावेशी शिक्षा (Inclusive education) उस शिक्षा प्रणाली को संदर्भित करती है जिसमें एक सामान्य छात्र अपना अधिकांश समय एक विकलांग छात्र (differently-abled student) के साथ स्कूल में बिताता है।

दूसरे शब्दों में, समावेशी शिक्षा (Samaveshi Siksha) विशेष आवश्यकता वाले बच्चों को सामान्य बच्चों से अलग-थलग शिक्षा देने के प्रस्ताव का विरोध करती है, अर्थात समावेशी शिक्षा सामान्य बच्चों और विकलांग बच्चों को एक साथ, एक ही वातावरण में शिक्षा देने पर बल देती है।

This content is available in English language also. Visit here to read this content in English.

शिक्षा की समावेशिता (Inclusion of education) बताती है कि एक सामान्य छात्र और एक विकलांग व्यक्ति को विशेष शैक्षिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए शिक्षा प्राप्त करने के लिए समान अवसर मिलना चाहिए।

इस लेख में हम आपको समावेशी शिक्षा (Samaveshi Siksha / Inclusive Education in Hindi) से सम्बंधित कई महत्वपूर्ण बिन्दुओं जैसे – समावेशी शिक्षा क्या है (Samaveshi Shiksha kya hai), समावेशी शिक्षा की परिभाषा (Samaveshi Siksha ki Paribhasha) समावेशी शिक्षा का अर्थ (Samaveshi Siksha ka arth / Inclusive education meaning in Hindi) इत्यादि के बारे में विस्तारपूर्वक बताएँगे।

समावेशी शिक्षा क्या है (Samaveshi Shiksha kya hai?) | What is Inclusive education

समावेशी शिक्षा (Samaveshi Shiksha) एक ऐसी शिक्षा प्रणाली है जो हर छात्र को बिना किसी बाधा जैसे योग्यता, शारीरिक अक्षमता, भाषा, संस्कृति, पारिवारिक पृष्ठभूमि और उम्र के बिना गुणवत्तापूर्ण शिक्षा सुनिश्चित करती है।

इसका सबसे बड़ा लाभ यह है कि इसमें एक निःशक्त बच्चा भी एक सामान्य बच्चे के साथ स्कूली माहौल में घुल-मिल सकता है और विभिन्न गतिविधियों का ज्ञान ले सकता है।

प्रायः ऐसा देखा गया है कि स्कूल और शिक्षण संस्थान में पढ़ने के बाद जब वे सामान्य माहौल में नौकरी या कोई कार्य करने जाते हैं तो उन्हें कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है, क्योंकि उन्हें केवल एक विशेष वातावरण वाली परिधि में ही रहने और व्यवहार करने का अनुभव होता है और ऐसे में जब वे शासकीय या निजी क्षेत्रों में कार्य करने जाते है तो उन्हें असहजता महसूस होती है।

इस प्रकार की कोई असहजता उनके ख़राब प्रदर्शन का कारण बनती है। अतः उनके समुचित विकाश के लिए यह आवश्यक है उन्हें सामान्य परिवेश में रखकर विभिन्न गतिविधियों का ज्ञान दिया जाए।

समावेशी शिक्षा का उद्देश्य, महत्व और अर्थ | Inclusive education meaning, aims and importance

कुछ समय पहले तक समावेशी शिक्षा की परिकल्पना केवल विकलांग छात्रों के लिए ही की जाती थी, लेकिन आधुनिक समय में प्रत्येक शिक्षक को इस सिद्धांत को अपनी कक्षा में व्यापक दृष्टिकोण से लागू करना चाहिए।

समावेशी शिक्षा या एकीकरण के सिद्धांत की नींव कनाडा और संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा रखी गई थी।

आधुनिक समय में पुरानी शिक्षा व्यवस्था के स्थान पर नई शिक्षा नीति का प्रयोग किया जा रहा है। यह उजागर करना महत्वपूर्ण है कि समावेशी शिक्षा किसी विशेष स्कूल या कक्षा को स्वीकार नहीं करती है, बल्कि इसका आशय सब के लिए सामान अवसर और सामान शिक्षा वाला परिवेश उपलब्ध कराना है।

विकलांग बच्चों को सामान्य बच्चों से अलग करना अब मान्य नहीं है क्योंकि विकलांग बच्चों को सामान्य बच्चों की तरह ही शैक्षिक गतिविधियों में भाग लेने का अधिकार है।

समावेशी शिक्षा का अर्थ | Inclusive education meaning in Hindi

बहुत से लोगों ने समावेशी शिक्षा की व्याख्या और अर्थ (Meaning / arth) को आमतौर पर गलत समझा है, समावेशी शिक्षा का अर्थ है – “छात्रों को एक ही कक्षा में सर्वोत्तम वातावरण देकर सार्थक शिक्षा प्रदान करना” ताकि वे अपने जीवन को सम्मानजनक और सफल बना सकें।

(Inclusive education means – Providing meaningful education, to all differently abled students, in an optimum environment so that they can go ahead and make their life dignified and successful)

अर्थात समावेशी शिक्षा एक ऐसी शिक्षा व्यवस्था है जो सभी छात्रों (विकलांग और सामान्य) को एक ही क्लासरूम में सामान शिक्षा का अवसर देती है।

समावेशी शिक्षा के विकास के लिए क्या कदम उठाये जाने चाहिए | Steps needed for the development of inclusive education

  • समावेशी शिक्षा के विकास और उद्देश्यों की पूर्ती के लिए निम्नलिखित बच्चों को शिक्षा की परिधि में लाना होगा –
    • निम्न वर्ग के बच्चे
    • कामकाजी बच्चे
    • सड़कों पर मिले बच्चे
    • प्रवासी श्रमिकों के बच्चे
    • एचआईवी संक्रमित और अन्य सभी प्रकार के शारीरिक या मानसिक रूप से विकलांग बच्चे
  • विद्यालय स्तर पर समावेशी शिक्षा के अधिकतम विकास के लिए विद्यालय में सुरक्षा, आवास, शौचालय एवं पेयजल की समुचित व्यवस्था होनी चाहिए तथा साथ ही बच्चों की व्यक्तिगत विशेषताओं, उनकी रचनात्मक क्षमताओं को ध्यान में रखते हुए स्कूल का माहौल विकसित किया जाना चाहिए।
  • शिक्षकों को चाहिए कि वे छात्रों के माता-पिता से लगातार संपर्क बनाए रखें ताकि वे उन्हें बच्चों की प्रगति और ख़राब प्रदर्शन के बारे में बता सकें।
  • भाषाई समस्याओं को ध्यान में रखते हुए इससे उत्पन्न होने वाली समस्याओं को यथाशीघ्र दूर करने का प्रयास करना होगा।
  • हमें ऐसी शिक्षा प्रणाली की ओर बढ़ना होगा, जो सभी को आसानी से उपलब्ध हो सके।

Samaveshi Shiksha के उद्देश्य | Aims of Inclusive education

समावेशी शिक्षा और सामान्य शिक्षा के उद्देश्य लगभग समान हैं, उदाहरण के लिए – जैसे देश का विकास, बच्चों की उचित शिक्षा के माध्यम से मानव संस्थाओं का विकास, नागरिक विकास, समाज का पुनर्गठन और पेशेवर दक्षता प्रदान करना आदि।

इन लक्ष्यों के अलावा समावेशी शिक्षा के अन्य लक्ष्य निम्नलिखित हैं –

  • शारीरिक विकलांग बच्चों के माता-पिता के कौशल और दक्षताओं को समझना और बच्चों के सामने आने वाली समस्याओं और कमियों को हल करना।
  • सबसे पहले शारीरिक रूप से विकृत बच्चों की विशेष आवश्यकताओं की पहचान करना और उनका निर्धारण करना।

समावेशी शिक्षा की परिभाषा | Definition of inclusive education in Hindi

स्टीफन और ब्लैकहार्ट के अनुसार समावेशी शिक्षा की परिभाषा – “मुख्यधारा की शिक्षा का अर्थ है बच्चों की सामान्य कक्षाओं में शिक्षा का प्रावधान या मनोवैज्ञानिक सोच पर आधारित समान अवसर जो व्यक्तिगत नियोजन के माध्यम से उचित सामाजिक मानवीकरण और सीखने को बढ़ावा देता है।”

हर्शल – समावेशी शिक्षा

शिक्षाविद – “समावेशी शिक्षा न केवल सीखने के बल्कि विशिष्ट सीखने के नए आयाम जारी करती है।”

अन्य शिक्षाविद – “समावेशी शिक्षा वह शिक्षा है जिसके दौरान सामान्य छात्रों और विशेष छात्रों को बिना किसी भेदभाव के एक ही संकाय के साथ शिक्षा मिलती है।”

समावेशी शिक्षा की विशेषताएं | Features of Inclusive Education

Samaveshi Siksha (समावेशी शिक्षा) की मुख्य विशेषताएं निम्नलिखित हैं:

  • समावेशी शिक्षा एक ऐसी शिक्षा है जिसके तहत शारीरिक रूप से विकलांग और सामान्य बच्चे मिलकर “सामान्य कक्षा” में शिक्षा ग्रहण करते हैं। विकलांग बच्चों को थोड़ी अधिक सहायता प्रदान कर उन्हें बराबरी का स्तर दिया जाता है। इस प्रकार समावेशी शिक्षा विकलांग बच्चों हेतु प्रचलित अलगाव-विरोधी नीति का एक व्यावहारिक समाधान है।
  • Samaveshi Siksha विशिष्ट शिक्षा का पूरक है। शारीरिक रूप से कम अक्षम बच्चों को भी समावेशी शिक्षण संस्थान में प्रवेश दिया जा सकता है। वास्तव में, विकलांग बच्चे जो विशेष शिक्षण संस्थानों में शिक्षा प्राप्त करते हैं (बोलचाल और अन्य प्रतिभाओं को सीखने के बाद) उन्हें समन्वित स्कूलों में भी प्रवेश दिया जा सकता है।
  • इस शिक्षा का प्रारूप इसलिए दिया गया है ताकि विकलांग बच्चों को समान शिक्षा के अवसर मिले और वे समाज के अन्य लोगों की तरह आत्मनिर्भर बनकर अपना जीवन व्यतीत कर सकें।
  • Samaveshi Shiksha विकलांग बच्चों को कम प्रतिबंधात्मक और अधिक प्रभावी वातावरण प्रदान करती है ताकि वे सामान्य बच्चों की तरह रह सकें।
  • यह स्वस्थ सामाजिक वातावरण और समाज में विकलांग और सामान्य बच्चों के बीच परस्पर-सामाजिक-संबंध बनाने में समाज के हर स्तर पर सहायक है। यह समाज में एक दूसरे के बीच की दूरी को कम करता है और आपसी सहयोग की भावना प्रदान करता है। यह एक ऐसी व्यवस्था है जिसके अंतर्गत शारीरिक रूप से विकलांग बच्चों को सामान्य बच्चों की तरह ही महत्वपूर्ण माना जाता है।

समावेशी शिक्षा का दायरा | Scope of inclusive education

Samaveshi Siksha सभी शारीरिक और मानसिक रूप से विकलांग बच्चों के लिए है। यह ऐसे हर बच्चे के लिए विशेष रूप से शिक्षा और सामान्य शिक्षक के बारे में बात करता है, जो इससे लाभान्वित होने के पात्र हैं।

समावेशी शिक्षा का कार्य लक्ष्य ऐसे सभी बच्चों तक पहुंचना और आनंदपूर्ण शिक्षा प्रदान करके उन्हें सामान्य जीवन की ओर ले जाना है।

Samaveshi Siksha (समावेशी शिक्षा) के कार्यक्षेत्र में शामिल हैं –

  • शारीरिक रूप से अक्षम बच्चा
  • मानसिक रूप से विक्षिप्त बालक
  • सामाजिक रूप से बाधित बच्चा
  • शैक्षिक रूप से अक्षम बच्चा

समावेशी शिक्षा की आवश्यकता | Need of inclusive education

समावेशी शिक्षा की आवश्यकता प्रत्येक देश को है क्योंकि समावेशी शिक्षा की सहायता से बच्चा सामान्य वातावरण में शिक्षा ग्रहण करता है और स्वयं को एक सामान्य बच्चे की तरह बनाने का प्रयास करता है, भले ही इसमें प्रतिभाशाली बच्चे, विशेष बच्चे और विकलांग बच्चे शामिल हों। .

कई ऐसे बच्चे होते हैं जो सामान्य बच्चे से अलग होते हैं, उन्हें एक साथ शिक्षा दी जाती है क्योंकि उन बच्चों में सीखने की क्षमता को बढ़ाया जा सकता है।

समावेशी शिक्षा की जरूरतों के बारे में हम नीचे पढ़ सकते हैं –

  • समावेशी शिक्षा प्रणाली के माध्यम से, समावेशी शिक्षा बच्चों को एक अवसर प्रदान करती है जिसमें विकलांग बच्चों को सामान्य बच्चों के साथ मानसिक रूप से प्रगति करने का अवसर मिलता है।
  • यह एक ऐसी शिक्षा है जिसमें शिक्षा की समानता (equality of education) के सिद्धांत का पालन किया जाता है, साथ ही इस शिक्षा ढांचे के माध्यम से शैक्षिक एकीकरण भी संभव है।
  • जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, सामान्य और विकलांग दोनों बच्चे सामान्य रूप से एक साथ शिक्षा लेते हैं, जिससे उनके बीच एक प्राकृतिक वातावरण बनता है, जिससे बच्चों में एकता, भाईचारे और समानता की भावना विकसित होती है।
  • जहां सामान्य बच्चे और विशेष बच्चे एक साथ शिक्षा ग्रहण करते हैं, वहां शिक्षा पर खर्च कम होता है क्योंकि यह संसाधनों का अनुकूलन करता है और इसकी उत्पादकता और उपयोग को अधिकतम करता है।
  • यह वह शिक्षा है जहाँ छोटे समाज का निर्माण होता है, जहाँ सभी प्रकार के बच्चे एक साथ शिक्षा प्राप्त करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप उनमें नैतिकता, प्रेम, सहानुभूति, आपसी सहयोग जैसे गुणों को आसानी से बढ़ाया जा सकता है।
  • इसके माध्यम से बच्चों में सीखने और सामाजिक प्रतिस्पर्धा जैसी भावनाएँ भी विकसित होती हैं।
  • आज के युग में इसका विशेष महत्व है क्योंकि यही शिक्षा ही आज के समाज में परिवर्तन ला सकती है इसलिए इसे अधिक से अधिक प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

समावेशी शिक्षा का महत्व | Importance of inclusive education

यह निम्नलिखित कारणों से महत्वपूर्ण है –

  • शारीरिक दोषों से मुक्त विभिन्न बच्चों की विशेष आवश्यकताओं की पहचान एवं निर्धारण करना।
  • शारीरिक दोषों के गंभीर होने से पहले रोकथाम के उपाय करना।
  • बच्चों को सीखने में होने वाली समस्याओं को ध्यान में रखते हुए काम करने के विभिन्न नवीन तरीकों के माध्यम से छात्रों को शिक्षा प्रदान करना।
  • शारीरिक रूप से अक्षम बच्चों का पुनर्वास और शारीरिक रूप से विकलांग बच्चों की सीखने की समस्याओं के बारे में जानकारी प्रदान करना।
  • शारीरिक रूप से विकलांग बच्चों की सीखने की समस्याओं के बारे में जानकारी प्रदान करना और सुधार के लिए समूह संगठन तैयार करना।
  • बच्चों की अक्षमताओं का पता लगाना और उन्हें दूर करने का प्रयास करना इत्यादि।

समावेशी शिक्षा की प्रक्रिया | Process of Inclusive Education

इसकी चार प्रक्रियाएँ हैं –

मानकीकरण (Standardization) – सामान्यीकरण वह प्रक्रिया है जो प्रतिभाशाली बच्चों और युवाओं के लिए जहाँ तक संभव हो काम सीखने के लिए एक सामान्य सामाजिक वातावरण बनाती है।

संस्थाविहीन शिक्षा (Institutionless education) – संस्थाविहीन शिक्षा एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें अधिक से अधिक प्रतिभावान बालक-बालिका आवासीय विद्यालयों में शिक्षा ग्रहण करने वालों की सीमाओं को समाप्त कर उन्हें आम जनता के बीच शिक्षा प्राप्त करने का अवसर प्रदान करती है।

शिक्षा की मुख्य धारा (The mainstream of education) – शिक्षा की मुख्य धारा वह प्रक्रिया है जिसमें प्रतिभाशाली बच्चों को दिन-प्रतिदिन की शिक्षा के माध्यम से सामान्य बच्चों से जोड़ा जाता है।

समावेशन (Inclusion) – समावेशन वह प्रक्रिया है जो प्रतिभाशाली बच्चों को उनकी शिक्षा के लिए उन्हें “सामान्य शिक्षा कक्ष” उपलब्ध कराती है (बिना किसी या पृथक्करण या अलगाव के) पृथक्करण वह प्रक्रिया है जिसमें समाज के एक विशेष समूह की अलग से पहचान की जाती है और धीरे-धीरे उस समूह और समाज के बीच की सामाजिक और व्यक्तिगत दूरी बढ़ जाती है।

समावेशी शिक्षा की प्रमुख समस्याएं या समावेशी शिक्षा में बाधाएं | Major barriers to inclusive education

समावेशी शिक्षा के दौरान कई समस्याओं या बाधाओं का सामना करना पड़ता है, जिनमें से कुछ प्रमुख समस्याएं या समावेशी शिक्षा की बाधाएं इस प्रकार हैं –

शिक्षकों में शिक्षण कौशल की कमी: इसमें विशेष और सामान्य बच्चे, और विकलांग बच्चे सभी एक साथ एक ही कक्षा में शिक्षा ग्रहण करते हैं और यही कारण है कि एक शिक्षक में उन सभी बच्चों को समान रूप से शिक्षा प्रदान करने की क्षमता होनी चाहिए,

उन्हें छात्रों की प्रकृति के अनुसार विभिन्न शिक्षण कौशल और विधियों को नियोजित करना चाहिए। और साथ ही शिक्षक में इतने शिक्षण कौशल विकसित होने चाहिए जिससे शिक्षक विशिष्ट और सामान्य बच्चों की समस्या को समझ सके और उनकी समस्याओं का प्रभावी ढंग से समाधान कर सके।

लेकिन यह क्षमता सभी शिक्षकों में नहीं पाई जाती है। अतः समावेशी शिक्षा की सबसे बड़ी समस्या शिक्षक में विकासात्मक शिक्षण कौशल का अभाव है।

सामाजिक दृष्टिकोण: हम जिस देश या समाज में रहते हैं, वहां के लोगों का सामाजिक रवैया ऐसा है कि हम विकलांग बच्चों या विशेष बच्चों को नकारात्मक नजरिए से देखते हैं। वे विशेषाधिकार प्राप्त छात्रों को एक सामाजिक धारणा बनाकर हतोत्साहित करते हैं कि ये लोग कुछ भी करने में सक्षम नहीं हैं। उनके परिवार या माता-पिता भी ऐसा ही सोचते हैं। इस तरह दूसरे लोग उन्हें समाज से अलग-थलग कर देते हैं।

वे शिक्षा देना भी नहीं चाहते। जो बच्चे आगे बढ़ना चाहते हैं, उनके मन में ये बातें बैठ जाती हैं, कि तुम यह नहीं कर पाओगे, तुम नहीं कर पाओगे।

यह सामाजिक दृष्टिकोण भी समावेशी शिक्षा की समस्याओं का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, जो हर आम आदमी के मन में बसा हुआ है।

शारीरिक बाधाएं: समावेशी शिक्षा की एक और बड़ी समस्या यह है कि शारीरिक रूप से विकलांग बच्चे को सीखने में समस्या होती है और वे सामान्य छात्रों की तुलना में धीमी गति से चीजों को पकड़ पाते हैं।

उन्हें सीखने में बहुत मेहनत करने की आवश्यकता होती है लेकिन इन समस्याओं को नज़रअंदाज कर उनके साथ वैसा ही व्यवहार किया जाता है जैसा व्यवहार, शिक्षण, विधियों, प्रवृत्तियों आदि से किया जाता है, जिसके कारण उनमें समस्याएँ उत्पन्न होती हैं।

पाठ्यक्रम: सामान्यतः एक विशेष पाठ्यक्रम, किसी एक ही तरह की बहुलता वाले छात्रों को ध्यान में रखकर तैयार किया गया होता है जैसे – सामान्य बच्चों के लिए अलग पाठ्यक्रम, और दृष्टिहीन या मूकबधिर बच्चों के लिए अलग पाठ्यक्रम। दो अलग-अलग पाठ्यक्रमों के बारे में एक ही शिक्षक को बराबर अनुभव नही होता।

पाठ्यचर्या की रूपरेखा तैयार करते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि पाठ्यचर्या लचीली, उपयोगी और सामान्य और विशेष बच्चों या विकलांग बच्चों के लिए उपयुक्त हो।

समावेशी शिक्षा में भाषा और संचार की समस्याएं: जैसा कि हम सभी जानते हैं कि समावेशी शिक्षा में हर तरह के बच्चे शिक्षा लेने आते हैं। कुछ बच्चे ऐसे होते हैं जो एक ही मातृभाषा से संबंधित नहीं होते हैं और पढ़ने-लिखने में असहज होते हैं।

जिससे भाषा को समझने और संप्रेषित करने जैसी समस्याएं उत्पन्न होती हैं। इसे समावेशी शिक्षा में एक और बड़ी चुनौती माना जा सकता है।

लेकिन यह समस्या इतनी प्रचलित नहीं है क्योंकि सभी शिक्षक इन समस्याओं की रिपोर्ट नहीं करते हैं।

भारतीय शिक्षा नीतियों में बाधाएं: भारत में कई ऐसी शिक्षा नीतियाँ हैं जो समावेशी शिक्षा के रास्ते में बाधक या बाधा उत्पन्न करती हैं। शिक्षक या स्कूल उसमें समस्या पैदा करने वाली नीतियों के दायरे में रहते हैं।

आज के लेख में, हमने समावेशी शिक्षा की अवधारणा पर चर्चा की। हमें उम्मीद है कि यह जानकारी (Inclusive Education in Hindi) आपके लिए मददगार थी। अब आप निम्नलिखित शीर्षकों पर पुनः विचार करें –

  • समावेशी शिक्षा (Samaveshi Siksha / Inclusive Education in Hindi)
  • समावेशी शिक्षा क्या है (Samaveshi Shiksha kya hai)
  • समावेशी शिक्षा की परिभाषा (Samaveshi Siksha ki Paribhasha)
  • समावेशी सिक्षा का अर्थ (Samaveshi Siksha ka arth / Inclusive education meaning in Hindi)।

ध्यान दें

हमारें लेखक कई घंटों तक कड़ी मेहनत करते हैं ताकि आपको प्रामाणिक और उच्च गुणवत्ता युक्त सामग्री उपलब्ध करायी जा सकें, हमारे कार्य की सराहना और हमें सहयोग करने के लिए, आप चाहें तो नीचे दी गई बटन का उपयोग कर, अपना योगदान दे सकतें है।

Leave a Comment