Aloevera ke fayde: एलोवेरा के फायदें (Aloevera benefits in Hindi) जानकर अपने चेहरे को बनाये खूबसूरत

Aloevera ke fayde: एलोवेरा के फायदें जानकर अपने चेहरे को ऐसे बनायें खूबसूरत

Share this article

एलोवेरा के फायदें (Aloevera ke fayde): एलोवेरा जेल का उपयोग सनबर्न को दूर करने और घावों को ठीक करने के लिए किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपके पसंदीदा पॉटेड प्लांट का इस्तेमाल सनबर्न से राहत और घरेलू सजावट के अलावा आपके चेहरे को खूबसूरत बनाने के लिए भी किया जा सकता है?

त्वचा रोगों को दूर करने के लिए एलोवेरा सबसे व्यापक रूप से उपयोग किये जाने वाले हर्बल रेमेडीज (Herbal remedies) में से एक है, क्योंकि इस पौधे के जेल जैसे घटक त्वचा की कई छोटी-मोटी बीमारियों को ठीक कर देते हैं।

एलोवेरा के कई फायदें हैं, इस लेख में आज हम एलोवेरा के इन्ही फायदों (Aloevera ke fayde / Aloe vera benefits in Hindi) के बार में आपको बताएँगे।

एलोवेरा | Aloe Vera in Hindi

प्राचीनकाल से ही एलोवेरा का उपयोग एक औषधि के रूप में किया जा रहा है। यह मूल रूप से उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों जैसे – उत्तरी अफ्रीका, दक्षिणी यूरोप और कैनरी द्वीप समूह में पायी जाने वाली वनस्पति है।

loevera ke fayde: एलोवेरा के फायदें जानकर अपने चेहरे को ऐसे बनायें खूबसूरत
Aloe Vera – NCERT Infrexa

इसे भे पढ़े: जान लीजिये अंजीर खाने के फ़ायदे (Anjeer Ke Fayde) और नुकसान

हार्टबर्न से राहत देने से लेकर स्तन कैंसर के प्रसार को रोकने तक, शोधकर्ता इस पौधे और इसके कई उपोत्पादों के लाभों (Aloevera ke fayde) के बारे में और अधिक जानने के लिए अध्ययन कर रहे हैं।

एलोवेरा के 7 अद्भुत उपयोग (Aloevera ke fayde) | 7 Amazing Uses for Aloe Vera

एलोयवेरा कई घरों या जगहों में अपने आप ही उग आता है, लेकिन बहुत ही कम लोगों को इसके फ़ायदे (Aloevera ke fayde) के बारे में पता होता है।

चेहरे की त्वचा को खूबसूरत बनने के लिए एलोवेरा को चेहरे पर भी लगाया जा सकता है, आइये सबसे पहले एलोवेरा के 7 अद्भुत उपयोग (Aloevera ke fayde / 7 amazing uses) के बारे में जानते हैं –

1. हार्टबर्न में आराम | Heartburn relief

गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग (जीईआरडी) एक पाचन विकार है जिसके कारण अक्सर हार्ट बर्न की समस्या हो जाती है।

2010 की एक समीक्षा के अनुशार भोजन के समय 1 से 3 औंस एलोवेरा का जूस पीने से जीईआरडी (GERD) की गंभीरता कम हो सकती है।

इसे भे पढ़े: छाती में गैस के लक्षण: हार्ट अटैक या गैस का दर्द कैसे पहचानें?

यह पाचन संबंधी अन्य समस्याओं को भी दूर कर सकता है। पौधे की कम विषाक्तता इसे जीईआरडी के लिए एक सुरक्षित और कोमल उपाय बनाती है।

2. ताजा रखने के लिए | Keeping produce fresh

कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस द्वारा ऑनलाइन प्रकाशित 2014 के एक अध्ययन में टमाटर को एलोवेरा जेल के साथ लेपित कर रख दिया गया।

रिपोर्ट में यह पाया गया कि एलोवेरा की कोटिंग (लेप) ने सब्जियों पर कई प्रकार के हानिकारक जीवाणुओं के विकास को सफलतापूर्वक अवरुद्ध कर दिया।

इसी तरह के परिणाम सेब के साथ एक अलग अध्ययन में पाए गए। इसका मतलब यह है कि एलो जेल फलों और सब्जियों को ताजा रखने में मदद कर सकता है।

सब्जियों और फलों को तजा रखने के लिए खतरनाक रसायनों की बजाय एलोवेरा जेल का उपयोग कर मनुष्यों पर इनके पड़ने वाले दुष्प्रभावों को कम किया जा सकता है।

3. माउथवॉश का विकल्प | An alternative to mouthwash

इथियोपियन जर्नल ऑफ हेल्थ साइंसेज में प्रकाशित 2014 के एक अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पाया कि एलोवेरा का अर्क रासायनिक-आधारित माउथवॉश का एक सुरक्षित और प्रभावी विकल्प है।

एलोवेरा के पौधें में प्राकृतिक रूप से विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाई जाती है जो, पट्टिका (दांतों पर हानिकारक परत) को बनने से रोकती है। यदि आपके मसूढ़ों से खून बह रहा है या सूज गया है तो उसमें भी यह राहत प्रदान करता है।

4. ब्लड में शर्करा की मात्रा को कम करता है | Lowering your blood sugar

फाइटोमेडिसिन: इंटरनेशनल जर्नल ऑफ फाइटोथेरेपी एंड फाइटोफार्मेसी के एक अध्ययन के अनुसार, प्रतिदिन दो बड़े चम्मच एलोवेरा जूस पीने से टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों में रक्त शर्करा का स्तर गिर सकता है।

इसका मतलब यह है कि भविष्य में एलोवेरा का उपयोग ‘मधुमेह के इलाज’ के तौर पर किया जा सकता है। इन परिणामों की पुष्टि फाइटोथेरेपी रिसर्च में प्रकाशित एक अन्य अध्ययन द्वारा भी की जा चुकी है।

लेकिन मधुमेह वाले लोग, जो ग्लूकोज कम करने वाली दवाइयां ले रहे हैं, उन्हें एलोवेरा का सेवन करते समय सावधानी बरतनी चाहिए।

मधुमेह की दवाओं के साथ एलोवेरा जूस लेने पर, यह आपके शरीर में ग्लूकोज की मात्रा को नीचे स्तर तक कम कर सकता है।

5. एक प्राकृतिक रेचक | A natural laxative

एलोवेरा को प्राकृतिक रेचक माना जाता है। नाइजीरियाई वैज्ञानिकों की एक टीम ने चूहों पर एक अध्ययन किया और पाया कि विशिष्ट एलोवेरा हाउसप्लांट से बना जेल कब्ज को दूर करने में सक्षम है।

मेयो क्लिनिक के अनुशार एलोवेरा का इस्तेमाल (Alovera ka upyog) कब्ज से राहत पाने के लिए किया जा सकता है, लेकिन कम मात्रा में। वे सलाह देते हैं कि 0.04 से 0.17 ग्राम सूखे रस की एक खुराक पर्याप्त है।

लेकिन यदि आपको क्रोहन रोग, कोलाइटिस या बवासीर है तो आपको एलोवेरा का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि यह पेट में ऐंठन और दस्त का कारण बन सकता है।

यदि आप अन्य दवाएं ले रहे हैं तो आपको एलोवेरा का सेवन बंद कर देना चाहिए। यह आपके शरीर की दवाओं को अवशोषित करने की क्षमता को कम कर सकता है।

6. त्वचा की देखभाल | Skin care

अपनी त्वचा को साफ और हाइड्रेट रखने के लिए आप एलोवेरा का इस्तेमाल कर सकते हैं, क्योंकि पानी से भरपूर पत्तियां, जटिल कार्बोहाइड्रेट नामक विशेष पौधों के यौगिकों के साथ मिलकर, इसे एक प्रभावी फेस मॉइस्चराइजर और दर्द निवारक बनाती हैं।

7. स्तन कैंसर से लड़ने की क्षमता | Potential to fight breast cancer

एक नए अध्ययन में एलो इमोडिन के चिकित्सीय गुणों की जाँच में पाया गया कि एलोवेरा की पत्तियों में पाया जाने वाला यौगिक स्तन कैंसर के विकास को धीमा करने में मदद करता है। हालांकि, इस बारे में और अधिक अध्ययन की आवश्यकता है।

ये रहे एलोवेरा के 7 चमत्कारी गुण और फायदें (Aloevera ke fayde / 7 amazing uses of Aloevera), आइये आपको अब ये बताते हैं की आप अपने चेहरे पर एलोवेरा लगाकर कैसे अपनी ख़ूबसूरती को बढ़ा सकते हैं।

एलोवेरा को चेहरे पर लगाने के 10 फायदे | 10 Benefits of Using Aloe Vera on Face in Hindi

यूं तो कहते हैं कि चेहरे क्रीम, पाऊडर से नहीं बल्कि काबिलियत से चमकते हैं, लेकिन फिर भी यदि आप लम्बे समय से त्वचा की समस्याओं जैसे – चेहरे पर झुर्रियां, कालापन, और पिम्पल्स आदि से परेशान हैं तो आप एलोवेरा या इससे बने उत्पाद लगाकर भी अपने चेहरे की चमक बढ़ा सकते हैं।

एलोवेरा के सबसे प्रमुख फायदों में से एक फायदा (Aloevera ke fayde) ये है कि यह आपके चेहरे के ग्लो को बढ़ा कर आपको एक दमदमाती त्वचा दे सकता है, जिससे आप अधिक जवां औरे खिले हुए दिख सकते हैं।

आप अपने विशेषज्ञ/डॉक्टर से एलोवेरा के निम्नलिखित फायदों के (Aloevera ke fayde) के बारे चर्चा कर सकते हैं –

1. बर्न्स (Burns)

मामूली जलन के लिए एलोवेरा जेल को प्रभावित जगह पर दिन में तीन बार तक लगाएं, इससे आपको काफी आराम मिलेगा।

2. सनबर्न (Sunburn)

एलोवेरा सनबर्न से आपकी त्वचा की रक्षा करता है, हालाँकि शोध से पता चलता है कि यह सनबर्न को रोकने का एक प्रभावी तरीका नहीं है, इसलिए आप हर दिन धूप से बचने का प्रयास करें!

3. छोटी-मोटी खरोच (Small abrasions)

यदि आपने अपनी ठुड्डी या माथे पर खरोंच लगा ली है, तो आप दर्द और जलन से तुरंत राहत पाने के लिए उस क्षेत्र पर एलोवेरा लगा सकते हैं। इसे प्रति दिन तीन बार प्रयोग करें।

4. कट्स

यदि आप मामूली कट-फट जानी पर भी नियोस्पोरिन का उपयोग करते हैं, तो इसके बजाय एलोवेरा लगाने पर विचार करें। इसकी आणविक संरचना घावों को जल्दी भरने में मदद करती है तथा कोलेजन को बढ़ाकर और बैक्टीरिया से लड़कर निशान को कम करती है। इसे प्रति दिन तीन बार तक कटी-फटी वाली जगह पर लगायें।

5. सूखी त्वचा (Dry skin)

एलोवेरा जेल त्वचा में आसानी से अवशोषित हो जाता है, जिससे यह तैलीय त्वचा के लिए एक अच्छा उपाय बन जाता है। यह रूखी त्वचा के इलाज में भी मदद करता है।

अपनी त्वचा में नमी को बरक़रार रखने के लिए एलोवेरा का उपयोग कर सकते हैं।

6. शीतदंश (Frostbite)

शीतदंश एक गंभीर स्थिति है जिसके लिए आपातकालीन चिकित्सा उपचार की आवश्यकता होती है, लेकिन एलोवेरा जेल का उपयोग प्राचीनकाल से ही शीतदंश के उपाय के रूप में किया जा रहा है, यह ध्यान रखें कि इसे आजमाने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

7. कोल्ड सोर (Cold sores)

एलोवेरा दाद-वायरस के इलाज में मदद करता है, जो कि कोल्ड सोर का मूल कारण भी है। एलोवेरा जेल की थोड़ी सी मात्रा को अपने कोल्ड सोर पर दिन में दो बार तब तक लगाएं जब तक कि यह ठीक न हो जाए।

8. एक्जिमा (Eczema)

एलोवेरा के मॉइस्चराइजिंग गुण एक्जिमा से जुड़ी सूखी, खुजली वाली त्वचा को ठीक करने में मदद कर सकते हैं। एलोवेरा जेल सेबोरहाइक डर्मेटाइटिस को कम करने में भी मदद कर सकता है।

9. सोरायसिस (Psoriasis)

एक्जिमा की तरह, एलोवेरा सोरायसिस से होने वाली सूजन और खुजली को कम करने में मदद कर सकता है। अच्छे परिणामों के लिए, त्वचा के प्रभावित क्षेत्र पर दिन में दो बार एलोवेरा जेल लगाएं।

10. सूजे हुए मुँहासे (Inflammatory acne)

अपने एंटी इन्फ्लामेंट्री गुणों के कारण यह मुँहासों के सूजन जैसे कि – पस्ट्यूल और नोड्यूल का इलाज करने में मदद कर सकता है। यदि आप अपने मुहांसों के सूजन से परेशान हैं तो कॉटन स्वैब से जेल को दिन में तीन बार सीधे पिंपल्स पर लगाएं, इससे आपको आराम मिलेगा।

इन्हें भी पढ़ें:

इस लेख में हमने आपको एलोवेरा के फ़ायदे (Aloevera ke fayde) और चेहरे पर इसके उपयोग और लाभ (face par aloevera lagane ke fayde / how to use aloevera on face in Hindi) के बारें में बताया।

यदि आपको यह लेख (Aloevera benefits in Hindi) पसंद आया है तो इसे अपने मित्रों और परिवारजनों को जरूर शेयर करें।

Alovera ke fayde (Aloevera benefits in Hindi) – NCERT Infrexa

Leave a Comment