हिचकी रोकने के उपाय

हिचकी रोकने के उपाय | Home remedies to stop hiccups in Hindi

Share this article

हिचकी रोकने के उपाय (Hichki Rokane Ke Upaye): हिचकी आना एक सामान्य बात है, और आपने भी इसका अनुभव किया ही होगा। जब किसी व्यक्ति को हिचकी आती है तो हमारे देश में एक कहावत है कि आपको कोई याद कर रहा है।

यह भी कहतें हैं कि अपने प्रियजन का नाम लेने या सोचने से हिचकी चली जाती है। किंतु इस जानकारी का कोई प्रमाण नहीं है और न ही किसी का नाम लेने या सोचने से हिचकी आना बंद होती है।

हिचकी आने के पीछे कई कारण हो सकते हैं जैसे – एल्कोहल का उपयोग करने से, पेट में गैस बनने से और तनाव के कारण इत्यादि।

मैं वीरेंद्र सिंह है इस लेख के माध्यम से आपको हिचकी आने का कारण, और हिचकी रोकने के 10 घरेलू उपाय बताऊंगा।

हिचकी क्या है? | What is Hiccup

जैसा कि आप जानतें होंगे – हमारी छाती (Chest) और पेट (Abdomen) के बीच मांसपेशियों (Muscles) से बनी हुई एक झिल्ली (Membrane) पायी है जिसे डायफ़्राम (Diaphragm) कहते हैं, यह डायफ़्राम हमारे शरीर में एक पिस्टन की तरह काम करता है।

हिचकी रोकने के उपाय

जब भी हम अंत: श्वसन करते है (यानी सास अंदर लेते हैं) तो बाह्वर्तुल पेशिया और डायफ़्राम का संकुचन हो जाता है जिससे वक्ष (thorax) क्षेत्र का आयतन बढ़ जाता है और बाहर की हवा फेफड़ों में चली जाती है और जब बाह्वश्वासन (यानी स्वांस बाहर छोड़ते हैं) करते है तब अंतः वर्तुल पेशियां और डायफ़्राम का शीथलन हो जाता है जिससे वक्ष (thorax) क्षेत्र का आयतन कम हो जाता है और फेफड़े की वायु बाहर निकल जाती है।

यानी सांस लेने और सांस छोड़ने के दौरान यह डायफ़्राम (Diaphragm) पिस्टन की तरह नीचे और ऊपर होता रहता है।

कभी-कभी पेट में गैस या एसिडिटी बढ़ने के कारण यह डायफ़्राम (Diaphragm) सिकुड़ जाता है ऐसे समय में फेफड़े में जाने वाली हवा को समस्या होने लगती है इसी कारण से हिक! हिक! जैसी आवाज आने लगती है जिसे हिचकी (Hiccup) आना या हिचकी कहते।

इसे भी पढ़े – Anjeer Ke Fayde: जान लीजिये अंजीर खाने के फ़ायदे और नुकसान

हिचकी आने के करण | Causes of Hiccup

हिचकी आने के कई कारण हो सकते हैं जैसे –

  • जल्दी -जल्दी खाना खाने के कारण
  • बिना रुके पानी पीने से
  • तीखा खाने से
  • ज्यादा गर्म खाने से
  • अचानक से मौसम बदलने के कारण
  • गर्म के बाद कुछ ठंडा खा लेने से
  • एल्कोहल का उपयोग करने
  • ज्यादा चिंता करना
  • सिगरेट पीना इत्यादि

इसे भी पढ़ें – Weight Loss Tips in Hindi | वजन घटाने के 12 असरदार घरेलू उपाय

हिचकी रोकने के 10 घरेलू उपाय

यदि आप हिचकी से परेशान हैं तो, नीचे बताये गये हिचकी रोकने के उपाय (घरेलू उपायों) को अपना सकतें हैं –

1. ठंडा पानी पीना

ठंडा पानी पीने से शरीर को साॅक (Shock) लगता है, जिसके कारण हिचकी आने से राहत मिलती है। शरीर में किसी भी प्रकार के साॅक लगने से डिस्ट्रक्शन पैदा होता है और हिचकी आना बंद हो जाती हैं। ये उपाय हिचकी रोकने के अन्य उपायों से ज्यादा सहज और प्रभावशाली है।

हिचकी के कारण और रोकने के उपाय
1. हिचकी रोकने के उपाय – ठंडा पानी

इसे भी पढ़े – पुरुषों में कमर दर्द के कारण, लक्षण और उपचार | Back pain in men in Hindi

2. ठंडा पानी और शहद

हिचकी होने पर तुरंत एक चम्मच शहद को ठंडे पानी में डालकर पीने से या चम्मच में शहद को चखने से हिचकी जल्दी ठीक हो जाती है।

2. हिचकी रोकने के उपाय – ठंडा पानी और शहद

3. सांसों को थामना

सांस थाम कर हिचकी रोकने की विधि प्राचीन काल से अपनाई जा रही है। इससे ब्लड में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ जाती है जिसके परिणाम स्वरूप आपके ब्रेन में डिस्ट्रेक्शन होने लगता है और हिचकी बंद हो जाती है।

यह प्रक्रिया तब तक करे जब तक हिचकी ठीक ना हो जाए।

इसे भी पढ़ें – Knee pain in Hindi | घुटने का दर्द (Ghutne ka dard) – कारण और घरेलू उपचार

हिचकी के कारण और रोकने के उपाय
3. हिचकी रोकने के उपाय – सांसों को थामना

4. चीनी का सेवन

चीनी का सेवन हिचकी के लिए एक बहुत अच्छा इलाज है। चीनी को निगलने से वेगस तंत्रिका (Vegas nerve) सक्रिय हो जाती है जिससे हिचकी आना बंद हो जाती है।

एक चम्मच चीनी को 5 सेकंड तक मुंह में दबाए रखें और बिना मुंह चलाएं (बिना चबाए) निगल ले और इसके बाद एक ग्लास पानी पी ले।

4. हिचकी रोकने के उपाय – चीनी का सेवन

5. सिरका का सेवन

सिरका हिचकी दूर करने में काफी उपयोगी है। सिरका खट्टा स्वाद के कारण दिमाग को डिस्ट्रैक्ट करती है जिससे हिचकियाँ बंद हो जाती है।

एक चम्मच सिरके को एक ग्लास पानी में डालकर निगलने से हिचकी से छुटकारा मिल जाता हैं।

इसे भी पढ़ें- छाती में गैस के लक्षण: हार्ट अटैक या गैस का दर्द कैसे पहचानें?

हिचकी के कारण और रोकने के उपाय
5. हिचकी रोकने के उपाय – सिरका का सेवन

6. पीनट बटर

हिचकी बंद करने के लिए पीनट बटर का उपयोग प्राचीन काल से होता आ रहा है। पीनट बटर सांस लेने की प्रक्रिया को बाधित करता है, जिससे हिचकी आना बंद हो जाती है।

पीनट बटर
6. हिचकी रोकने के उपाय – पीनट बटर

एक चम्मच पीनट बटर को मुंह में कुछ समय तक रखें और बिना चबाये निगल ले इसके बाद आप एक ग्लास ठंडा पानी पी सकते हैं।

7. एक पेपर बैग में सांस लें

हिचकी दूर करने के लिए यह एक विश्वसनीय तरीका है कागज के बने बैग में मुंह को डालने से कुछ समय बाद शरीर में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ जाती है जिसके कारण आप जल्दी-जल्दी सांस लेने लगते है, जिससे हिचकी आना बंद हो जाती है।

एक पेपर बैग में सांस लें
7. हिचकी रोकने के Upay – पेपर बैग में साँस लेना

8. नींबू का सेवन

नींबू का सेवन हिचकी रोकने के लिए काफी कारगर उपाय है। नींबू का खट्टा स्वाद दिमाग को डिस्ट्रैक्ट करके हिचकी को बंद कर देता है।

नींबू का सेवन
8. हिचकी रोकने के उपाय – नींबू का सेवन

नींबू को कई भागों में काटकर, उसके ऊपर नमक डालकर चखने से हिचकी आना बंद हो जाती है।

9. इलायची का सेवन

इलायची में मांसपेशियों की थकान को कम करने वाले गुण पाए जाते हैं जो हिचकी रोकने में मदद करते हैं।

इलायच का सेवन
9. हिचकी रोकने के उपाय – इलायची का सेवन

एक चम्मच इलायची के पाउडर को एक ग्लास पानी में अच्छी तरह से घोलने के बाद इसे 10 मिनट तक ऐसे छोड़ दे इसके बाद छानकर पी ले।

इसे भी पढ़ें- Symptoms and full form of AIDS – एड्स के लक्षण और फुलफार्म

10. अपने दिमाग को अलग दिशा में केंद्रित करना

हिचकी के दौरान अपने दिमाग को अलग दिशा में केंद्रित करना जैसे – बुक पढ़ना, गाना गाना और अपने जिगरी यार के बारे में सोचना आदि।

अपने दिमाग को अलग दिशा में केंद्रित करना
10. हिचकी रोकने के उपाय – अपने दिमाग को अलग दिशा में केंद्रित करना

इसे भी पढ़ें-

NCERT – Infrexa

Leave a Comment